Strange India All Strange Things About India and world


नई दिल्ली43 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अप्रैल-जून 2020, यानी, इस कारोबारी साल की पहली तिमाही में कोर सेक्टर के उत्पादन में 24.6% की गिरावट आई है

  • कोर सेक्टर में लगातार चौथे माह गिरावट रही
  • फर्टिलाइजर्स को छोड़ बाकी सभी 7 सेक्टर गिरे

देश के 8 सबसे प्रमुख उद्योगों के उत्पादन में जून में 15 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। इन आठ उद्योगों को देश का कोर सेक्टर कहा जाता है। ये 8 उद्योग हैं कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफायनरी प्रोडक्ट्स, फर्टिलाइजर्स, स्टील, सीमेंट और बिजली। इनमें फर्टिलाइजर्स को छोड़कर बाकी सभी सात उद्योगों के उत्पादन में गिरावट आई।

एक साल पहले यानी जून 2019 में 8 प्रमुख उद्योगों के उत्पादन में 1.2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक मई में कोर सेक्टर में 22 फीसदी गिरावट रही थी। अप्रैल-जून 2020, यानी, इस कारोबारी साल की पहली तिमाही में कोर सेक्टर के उत्पादन में 24.6 फीसदी की गिरावट आई है। अप्रैल-जून 2019 में कोर सेक्टर के उत्पादन में 3.4 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी।

लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था पर बेहद बुरा असर

इन आंंकड़ों का मतलब यह है कि कोरोनावायरस और लॉकडाउन का अर्थव्यवस्था पर बेहद बुरा असर पड़ा है। अकेले फर्टिलाइजर्स सेक्टर में तेजी दिख रही है। क्योंकि इस समय सिर्फ कृषि सेक्टर ही अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। लॉकडाउन के कारण एक और उद्योग धंधों को बंद करना पड़ा। दूसरी और मांग कम हो जाने के कारण भी उद्योगों को उत्पादन घटाना पड़ा। पिछले चार महीने का ग्राफ हालांकि यह भी बताता है कि आर्थिक हालात में लगातार सुधार हो रहा है।

8 उद्योगों का उत्पादन जून में इस प्रकार रहा

कोयला : -15.5%

कच्चा तेल : -6%

प्राकृतिक गैस : -12%

रिफाइनरी प्रोडक्ट्स : -8.9%

फर्टिलाइजर्स : +4.2%

स्टील : -33.8%

सीमेंट : -6.9%

बिजली : -11%

संपूर्ण कोर सेक्टर : -15%

जून के औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े भी खराब रह सकते हैं

कोर सेक्टर का औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) में 40.27 फीसदी योगदान होता है। कोर सेक्टर के उत्पादन में 15 फीसदी गिरावट को इस बात का संकेत माना जा सकता है कि जून के औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े भी बेहद खराब रहने वाले होंगे। जून के औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ अगस्त के दूसरे सप्ताह में जारी होंगे।

लॉकडाउन के बाद हर महीने कोर सेक्टर में गिरावट रही

कोरोनावायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में लॉकडाउन लगाए जाने के बाद हर महीने कोर सेक्टर में गिरावट दर्ज की गई। मार्च 2020 में कोर सेक्टर 8.6 फीसदी गिरा। अप्रैल में यह 37 फीसदी गिरा। मई में इसमें 22 फीसदी गिरावट आई थी। पूरे देश में 25 मार्च को लॉकडाउन लगा दिया गया था। कुछ राज्यों ने पहले ही लॉकडाउन लगा दिए थे।

0



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *