• Hindi News
  • National
  • Sanjay Jain | Rajasthan Phone Tapping Case Latest News Today Updates: BJP Sanjay Jain Interrogation Continues, Sog On Call Details And Mla Contact Information

जयपुर3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

संजय जैन की पूर्व मुख्यमंत्री व कई भाजपा नेताओं के साथ उनकी नजदीकियां रही है।

  • संजय जैन को पूछताछ के बाद एसओजी द्वारा शुक्रवार रात को गिरफ्तार कर लिया गया
  • संजय जैन उर्फ संजय बरडिया बीकानेर के लुणकरणसर का रहने वाला है, जो 20 साल पहले जयपुर आ गया था

राजस्थान में खरीद फरोख्त से संबंधित वायरल हुए ऑडियो के मामले में कोर्ट द्वारा संजय जैन को 4 दिन की रिमांड पर भेज दिया गया है। इससे पहले एसओजी द्वारा लगातार करीब 24 घंटे से पूछताछ की गई। सबसे पहले संजय जैन को गुरुवार पुछताछ शुरू की गई। जो शुक्रवार दिन भर जारी रही। देर रात उसके गिरफ्तार कर लिया गया। जिसके बाद शनिवार को भी संजय से जानकारी जुटाई जा रही है।

जानकारी अनुसार, एसओजी द्वारा अब संजय जैन की कॉल डिटेल खंगाली जा रही है। जिससे उसके संपर्कों के बारे में जानकारी जुटाई जा सके। सूत्रों की माने तो संजय जैन से जानकारी जुटाई जा रही है कि वो विधायकों से कब-कब संपर्क में रहा। गजेंद्र सिंह कौन है। भंवरलाल से कभी संपर्क में रहा या बात हुई है। पहली बार कब मिले थे। अगर विधायकों से फोन पर बात हुई तो कितनी देर हुई। इसके साथ राज्यसभा चुनाव के दौरान की गई गतिविधियों के बारे मे भी पूछताथ की जा रही है। उस समय भी विधायकों के संपर्क में थे क्या।

दिल्ली से भी संपर्क खंगाले जा रहे
सूत्रों की माने तो संजय जैन से पूछा जा रहा है कि वो कब नेताओं के संपर्क में आया। इसके साथ दूसरे राज्यों के नेताओ और विधायकों से जुड़े होने के बारे में भी पूछताछ की जा रही है। साथ ही क्या दिल्ली में भी किसी से संपर्क जुड़ा है। एसओजी की टीम ने संजय के माेबाइल की काॅल डिटेल निकलवाई है, जिसमें कई नेताओं व अफसराें से लंबी बातचीत हाेना सामने आया है।

पांच दिन पहले ही जयपुर आया

राजनीतिक उठापटक के दाैरान संजय बरडिया लूणकरणसर में ही रहा। पांच दिन पहले ही वह जयपुर आया था। पूछताछ में संजय ने एसओजी काे बताया है कि वह वॉट्सऐप काॅलिंग से ही बात करता था।

कौन है संजय जैन
संजय जैन उर्फ संजय बरडिया बीकानेर के लुणकरणसर का रहने वाला है। संजय करीब 20 साल पहले जयपुर में शास्त्री नगर इलाके में आकर रहने लगा था। जयपुर में आने के बाद कई नेताओं से उनके संपर्क थे। पूर्व मुख्यमंत्री व कई भाजपा नेताओं के साथ उनकी नजदीकियां रही है। होटल व्यवसाय से जुड़े होने के कारण कई आईपीएस और आईएएस से अच्छे संबंध हैं। 

पहले गिरफ्तार दो आरोपियो की वॉइस जांच के लिए कोर्ट में अर्जी लगाई

वहीं, दूसरी तरफ एसओजी द्वारा खरीद फरोख्त के मामले में पहले से गिरफ्तार अशोक सिंह और भरत मालानी की वॉइस सैंपलिंग के लिए कोर्ट में अर्जी लगाई गई है। दोनों को पहले कॉल रिकॉर्डिंग के आधार पर गिरफ्तार किया गया था। गौरतलब है कि इस मामले तीन विधायकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। उनमें महवा, जिला दौसा से विधायक ओमप्रकाश हुड़ला, किशनगढ़, जिला अजमेर से विधायक सुरेश टांक और पाली जिले में मारवाड़ जंक्शन से विधायक खुशवीर सिंह बताया जा रहा है। आरोप है कि इन तीनों विधायकों ने राज्यसभा चुनाव से पहले बांसवाड़ा में विधायकों से संपर्क किया था। उन्हें खरीद फरोख्त के लिए करोड़ों रूपए की रकम देने का प्रलोभन दिया था। तीनों विधायकों के संपर्क अशोक सिंह और भरत मालानी से बताए जा रहे थे। इस केस में एसओजी का नोटिस मिलने के बाद से ही सचिन नाराज बताए जा रहे हैं।   

0



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *