• चीन के बाहर टिकटॉक का दूसरा बड़ा मार्केट अमेरिका है, वहां अभी 4.54 करोड़ यूजर
  • टिकटॉक हॉन्गकॉन्ग के बाजार से खुद ही बाहर होगा, नया सुरक्षा कानून लागू होने के बाद फैसला

दैनिक भास्कर

Jul 07, 2020, 11:30 PM IST

वॉशिंगटन. भारत के बाद अब अमेरिका में भी चाइनीज ऐप बैन हो सकते हैं। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने इसके संकेत दिए हैं। उन्होंने सोमवार को एक इंटरव्यू में कहा कि टिकटॉक समेत चीन के सभी सोशल मीडिया ऐप को बैन करने के बारे में गंभीरता से सोच रहे हैं।

अमेरिका का ये बयान चाइनीज ऐप पर भारत में हुई कार्रवाई के 6 दिन बाद आया। टिकटॉक जैसे चाइनीज ऐप से अमेरिका भी राष्ट्रीय सुरक्षा का खतरा बता चुका है। अमेरिका-चीन के बीच कोरोना और हॉन्गकॉन्ग के मुद्दे पर भी तनाव बना हुआ है।

भारत में चाइनीज ऐप पर बैन के फैसले को अमेरिका ने सही बताया था
लद्दाख में तनाव के बीच भारत ने 29 जून को टिकटॉक समेत 59 चाइनीज ऐप पर रोक लगा दी थी। सरकार ने कहा कि इन ऐप्स के जरिए यूजर की जानकारियां हासिल की जा रही हैं, ये देश की सुरक्षा के लिए खतरा हैं। संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस फैसले को चीन पर डिजिटल स्ट्राइक बताया था। भारत के इस फैसले को पोम्पियो ने सही बताया था।

चीन के बाहर अमेरिका टिकटॉक का दूसरा बड़ा बाजार है। वहां अभी टिकटॉक के 4.54 करोड़ यूजर हैं, 2019 तक 3.96 करोड़ थे। दूसरी ओर भारत में टिकटॉक तेजी से बढ़ रहा था। 2019 तक भारत में टिकटॉक के 11.93 करोड़ यूजर थे, इस साल जून तक करीब 20 करोड़ हो गए थे।

टिकटॉक हॉन्गकॉन्ग से भी निकलेगा
चीन के वीडियो शेयरिंग ऐप टिकटॉक ने कहा है कि वह कुछ ही दिनों में हॉन्गकॉन्ग के कारोबार से बाहर हो जाएगा। टिकटॉक ने यह फैसला हॉन्गकॉन्ग में नया सुरक्षा कानून लागू होने के बाद लिया है। चीन ने 1 जुलाई से हॉन्गकॉन्ग में सुरक्षा कानून लागू किया था। इस विवादित कानून में प्रोविजन है कि कोई विरोध-प्रदर्शन के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेगा तो सोशल मीडिया कंपनी पर कार्रवाई हो सकती है। दूसरी ओर टिकटॉक पर चीन की सरकार के फेवर में कंटेंट और यूजर के डेटा को मैनेज करने के आरोप भी लगते रहे हैं।

चाइनीज ऐप से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. चीन के ऐप्स पर पाबंदी: टिक टॉक, यूसी ब्राउजर और शेयर इट समेत 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन, सरकार ने कहा- ये देश की सुरक्षा और एकता के लिए खतरा

2. 59 ऐप्स पर बैन के बाद चीन की प्रतिक्रिया: भारत ने चुनकर चीनी ऐप्स को संदेह के आधार पर हटाया, हम उससे अपना भेदभाव भरा रवैया बदलने को कहेंगे



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *