Strange India All Strange Things About India and world


अमृतसर19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आतंकियों की गिरफ्तारी के बारे में जानकारी सांझा करते पंजाब पुलिस के महानिदेशक दिनकर गुप्ता।

  • पंजाब पुलिस के महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने की गिरफ्तारी की पुष्टि, कहा-प्रदेश में बड़ी आतंकी घटना की थी साजिश
  • 6 अत्याधुनिक हथियारों के अलावा, 8 राउंड, कई मोबाइल फोन और इंटरनेट डोंगल भी बरामद किया गया

पुलिस ने पंजाब में बड़ी घटना की साजिश को नाकाम करते एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है, जो खालिस्तानी गतिविधियों से जुड़ा है। पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार करते हुए इनसे 6 अत्याधुनिक हथियार, 8 राउंड, कई मोबाइल फोन और इंटरनेट डोंगल बरामद किए हैं। डीजीपी ने बताया कि ये दोनों 5 खतरनाक अपराधियों के साथ मिलकर काम कर रहे थे। इनमें एक खालिस्तानी समर्थक इन दिनों अमृतसर जेल में बंद है।

दोनों संदिग्ध आतंकियों की पहचान तरनतारन जिले के गांव मियांपुर के रहने वाले हरजीत सिंह उर्फ राजू और शमशेर सिंह उर्फ शेरा के रूप में हुई है। इन्हें राजपुरा में होटल जश्न के पास चेक पोस्ट पर पकड़ा गया है। पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्‍ता ने बताया कि पुलिस ने पंजाब में आतंकियों की धर-पकड़ के लिए अभियान चला रखा है। इसी दौरान इन आतंकियों को पकड़ा गया। इनके पास से एक 9 एमएम पिस्टल, चार .32 कैलिबर पिस्टल और एक .32 रिवाल्वर, आठ कारतूस व विस्‍फोट कई मोबाइल फोन और एक इंटरनेट डोंगल जब्त किया गया है।

उन्‍होंने बताया कि ये आतंकी पंजाब में बड़ी आतंकी वारदात करने की फिराक में थे। इनकी गिरफ्तारी से एक और आतंकी मॉड्यूल का खुलासा हुआ है। ये आतंकी खालिस्‍तान जिंदाबाद फोर्स से जुड़े हैं। अमृतसर जेल में बंद पांच केजेडएफ आतंकियों अमृतपाल सिंह, शुभदीप सिंह उर्फ शुभ, रणदीप सिंह, गोल्‍डी और आशु के इशारे पर काम कर रहे थे। उनकी गिरफ्तारी से पंजाब में आतंकी गतिविधियों को लेकर बड़ी जानकारी मिलने की उम्‍मीद है।

डीजीपी के मुताबिक दोनों संदिग्ध के खिलाफ भादंसं की धाराओं 12, 216, 120बी और शस्‍त्र अधिनियम 25/54/59 सहित अन्‍य धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। वहीं प्रारंभिक पूछताछ में इन्होंने बताया कि उन्हें मध्‍य प्रदेश के बुरहानपुर से चार हथियार और हरियाणा के जींद के सफीदों से दो हथियार मिले थे। इसके अलावा डीजीपी ने बताया कि दोनों आतंकियों के खिलाफ तरनतारन के सराय अमानत कलां थाने में हत्‍या के प्रयास और शस्‍त्र अधिनियम के तहत केस दर्ज भी दर्ज है।

0



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *